Sunday, 5 August 2012

किशोरवय  जीवन का वह  समयांतराल है  जिसे सही मार्गदर्शक  और एक  मजबूत   सहारे की जरुरत होती  है इसी किशोरवय में ही कल   के सुनहरे   भविष्य की सुद्रिड नीव रखी जा सकती है, और इसी नीव पर एक आदर्श और सम्पूर्ण जीवन रुपी भवन खड़ा होता है समय पर  सहारा रुपी पथप्रदर्शक न मिला तो बिना सहारे की जैसी बेल जमीं पर लिपट लिपट के अपना बजूद खोजती रहेगी  और लताएँ भ्रमित होकर चरों दिशाओं में हाथ बढाती रहेंगी


0 comments: