Monday, 20 August 2012

बेल की दासतां



किशोरवय  जीवन का वह  समयांतराल है , जिसे सही मार्गदर्शक  और एक  मजबूत   सहारे की जरुरत होती  है । इसी किशोरवय में रखी गयी भविष्य की नीव आदर्श और सम्पूर्ण जीवन रुपी भवन को खड़ा करता है, अगर समय पर सहारा / पथप्रदर्शक न मिला तो जीवन की दासतां बिना सहारे की बेल के जैसे बन के  रह जाती है । इसी मर्म का पंक्तिबद्ध संघर्ष कुछ इस प्रकार उधृत करने की कोशिश।  

मैं बेल,  बिना सहारे के 
जमीं पर रेंगता मेरा जीवन
कोई लांघता,  कोई कुचलता
किसी की  सहानुभूति
एक ओर कर देती
बजूद अपना बचाने को 
सहारे के लिए हाथ बढाती रही।
सहचर्य की चाह में 
जमी पर सरकती गयी।
आया यौवन एक से दो, दो से चार
शाखाऐं मेरी बढती गयी। 
चरों ओर रेंग - रेंग कर
एक घेरा बना डाला।
वो घेरा ! एक जाल बन गया
घरोंदा मेरा, कीट पतंगों की पनाह,
भुजगों की आरामगाह
बनके रह गया।
निचे के जीवन को
मारती  गयी।
किसी को न उगने, न पनपने दिया
मैं हत्यारिन बनती गयी।
पत्ते मेरे सूखते रहे, गलते गए।
अभागे यौवन ने फूल उगाये
कुछ सन्तति के लिए लडते रहे,
कुछ दुनियां के दमन में
दम तोडते गए।
इस नारकीय जीवन में
फल मेरे सडते रहे
कीड़ों का निवाला बनते गए। 
और किसी के काम न आये
जीवन भर,
आशमान की ओर  देखती  रही
ऊंचाईयों को ताकती रही।
सुदृड सहारे की चाह में
जीवन काटती रही।
मेरे भी ये अरमानो थे
लताएँ मेरी,
ऊँची डाली पर लटकती
मस्ती करती और  
फल मेरे लटकते झूमते
राहगीर को ललचाते।
मैं अकड़ से कहती  
अधिकार उसी का मुझ पर,
जिसने जीवन संवारा मेरा
लेकिन ?
मेरे अरमान अरमान ही रहे।
अब बृद्धा अवस्था ........
पत्ते साथ छोड गये
बिना आवरण के,
नंगी लताओं के साथ
निडाल ........ असहाय।

रचना :- बलबीर राणा "भैजि"



1 comments:

p said...

लाजवाब भाई जी ...बहुत सुंदर रचना