Saturday, 1 September 2012

अडिग शब्दों का पहरा: लालसा

अडिग शब्दों का पहरा: लालसा: लालसा जीवन की आश तु ही जगाती खुल जाते मन के कपाट ओर-पोर जुड जाते दिल के तार तन सावधान ऑखों में चमक कान अडिग खडे वाणी...

0 comments: