Thursday, 11 October 2012

आज रो रही है माँ


आज रो रही है माँ
अपनों के लिए तरसती है माँ
नियति के क्रुर मजाक पर
बिरह की हँसी हँस रही है माँ
नो महिने कोख में सींचा जिसे
उसी के आक्रांत से 
आज इस कोख को कोसती है माँ
आज रो रही है माँ

मातृत्व धर्म निभाया था माँ ने
इन पौधों को हाथों हाथ उगाया था माँ ने
स्तनों से प्रेमपान कराया था माँ ने
सुन्दर कल की चाह में
निराया गुडाया था माँ ने
आज इसी कल से व्यथित है माँ
आज  रो रही है माँ

प्रीत आज प्रतिकार हो गयी
अपनो से ही धिक्कार दी गयी
जिस दुखः बिपदा ले के जीवन से लडी थी
आज फिर उस बिपदा की ललकार सुन रही है माँ
अपनो के लिए आँशुं बहा रही है माँ
आज  रो रही है माँ

अपने मन को मार कर
अपने तन को काट कर
खुद रूखा सुखा खा कर
बेटे को तला रस खिला कर
ममता की छांव में संवारती रही  
आज उसी ममता के दग्ध से दग्धित है माँ
आज  रो रही है माँ

……….बलबीर राणा "भैजी"
०२ अक्तूबर २०१२  

0 comments: