Sunday, 20 January 2013

जिंदगी भर सुकून का आशियाना,
खुशियों की मंजिल खोजता रहा
दुःख की परछाई से दूर भागता रहा
लेकिन ये तो जाना नहीं
सुख दुःख जीवन की गाडी के दो पहिये हैं

Dec 2012

0 comments: