Saturday, 25 May 2013

माया की गेड



तेरी बांधी मांया की गेड, सांखा मां टांगी रैन्दू ,
यूं बिराणा बाटों मां, सम्भाली ली जान्दू

कश्मीर बोर्डर ह्यूँ ना ढकीं चा,
बन्दूक का मुख पर मेरी जिन्दगी रचीं चा,
यूं कांठियों मां, चलदा चलदा जब थकी जान्दू ,
तब ये गेड खोली, थैक बिसरे जान्दू ,
तेरी,बांधी मांया की गेड, सांखा मां टांगी रैन्दू,
यूं बिराणा बाटों मां, सम्भाली ली जान्दू।

तेरी मांया का बथों ला, शाशं चलदी आश लगदी,
पराया ये मुल्क मां ,जीणू कु सारू मिलदू , 
तेरी प्रेम की ज्योत ला, काल का ये काला बणों मां
जिन्दगी कु उज्यालू दिखी जान्दू ,
तेरीबांधी मांया की गेड, सांखा मां टांगी रैन्दू,
यूं बिराणा बाटों मां, सम्भाली ली जान्दू

ओंसी की अन्ध्यारी रातीयों मां,
देश घातिकियों तें, घात लगान्दू
गाड गदनियों का, स्यूंस्याट मां
दुष्मन की तोपों कु, गगडाट सुणेन्दू,
तेरी बांधी मांया की गेड, सांखा मां टांगी रैन्दू ,
यूं बिराणा बाटों मां, सम्भाली ली जान्दू।

0 comments: