Saturday, 25 May 2013

होरी





चला दगडियों होरी खेलुला
बेप्रीत कु कालु रंग बगै ओला
लक धक बसंती बयार का दगडी
प्रेम कु नयुं रंग लगोला
सुख दुख बांटी की रोला
अमानुष्यता की होरी कु दहन करोला
आज ज़माना का दगडी
हमारा त्यौहार बद्लिगे
रीती बदलिगे रिवाज बद्लिगे
बद्लिगे लुकों की प्रीत
ओपचारिकता का भोंड़ रंग लगिगे मुखडीयों मा
चला ये रंग बगोला
चौक चौक , देरी देरी
ढोल दमो का दगडी नाचुला
अपना घोर गाँव तें गोकुल बणोला


२७ मार्च २०१३


0 comments: