Wednesday, 22 May 2013

तेरे आने से


तेरे आने से जिन्दगी आवाद हुई
सुखे खलियान में हरियाली उगी
उजडा जा रहा था घरौन्दा
निरसता पर बाज झपट रहा था
तेरे आने से चमगादडों की इस राह में
एका-एक दिवस का अवसान हुआ

रेत में तप रही थी प्रेम तृष्णा
जीवन ज्योति हवा के झोंको संग लड रही थी
तेरे आने से ना जाने कहां से
सूखे रेगिस्तान में सावन की बौछारें हुई

तन्हाई की ईंट तोड,
जवानी कंकरीट का ढेर बन रही थी
उदासी के समन्दर में
जीवन की सुबह ढूब रही थी
तेरे प्यार की पतवार से
जीवन की नय्या को खेवन हार मिला

आमावस्य की रात  चंदा ढूंढ रहा था
ठिठुरते सपनो के लिए आशियाना ढूंढ रहा था
तेरे आने से आज पतझड होते अरमा नो में
बंसत का आगमन हुआ
जैसे गरीब की बीबी का सौ श्रृंगार हुआ

09 फरवरी 2013


0 comments: