Sunday, 16 June 2013

खुदेड डंडयाली



माटा का ल्यावाडा उठिगे
तिवारी की सतीर सड़ीगे
अपणा ह्वेकी भी दुर्गति सोणी डंडयाली
बिगैर मंखियों की खुदेड डंडयाली

छ्जों की रोणक
विकाश का बथों मा उडिगे 
तिबारियों की चमक
पलायन की गाढ दगडी बगिगे
एक लखडा का धूंयेरू तें तरसोणी डंडयाली
बिगैर मंखियों की खुदेड डंडयाली

खोला- चोक झाड़ जमिगे
बाड़ी सगोड़ी भंगुलू उगिगे
विकाश की खुशी मा
विनाश की लीला सोणी डंडयाली
बिगैर मंखियों की खुदेड डंडयाली

जो तुम भैर जेके कना
वो यख भी कैर सकदा
अपना हक हकूक की लडे लड़ सकदा
बढ़िया स्कूल बंगला ये थाती मा भी बनै सकदा
यख भी चिफली सड़क ल्ये सकदा
इन सलाह देणी डंडयाली
बिगैर मंखियों की खुदेड डंडयाली

रचना : बलबीर राणा “भैजी”

0 comments: