Monday, 23 September 2013

अडिग प्रहरियों कु रैबार



यूँ डांडी काठियों मा भटकण ब्वे,
गाढ़ गद्नियों मा हिटण ब्वे,
नि लगदु ज्यू पराण यख ब्वे,
ये बोर्डर की जिंदगी ब्वे

ये शांत दीखण वली सीमा रेखा मा,  
जीवन सदानी अशांत रैयी ब्वे,
संताप बिलाप मंखियत कु,
मनखी वार-पार का तपण रैनी ब्वे

पीड़ा यूँ अडिग प्रहरियों की,
कैन जाणणे की कोशिस नि करी ब्वे,
कने होन्दी खाणी कमाणी यूँ की,
कनकै, कैतें समझाणी ब्वे

बारहा मेनो की बारहा ऋतू,
यों कभी नि देखी ब्वे,
शाल भर ह्युंद ही रैयी,
या रैयी वर्षभर जेठ और चोमाश ब्वे

संबेदनाओं का द्वि बोल,
संकट घडी पर लोग बोली जांदा ब्वे,
सदाहत पर सियासत इन करदन,
जन यूँ का हम क्वी नि लग्दन ब्वे  
...... बलबीर राणा "अडिग" 

0 comments: