Friday, 9 May 2014

डाळे नजर




डाळा तु किले?
मुक्ति चाणू च
माऽटा से,
तेरी जड़ जग्वाळ माटू ही च,
तु कत्गा भी लम्बू ह्व़े जा
त्वेल असमान नि पोंछण,
छोड़ी दे! तों झूटा स्वपनियों तें,
असमान आज तक
क्वी नि पोंछी !
ना रेन!
जु भी उऽडा
घूमी-फिरी
बैठि धरती मां  
वख क्वी ठौर नि होंदु

© सर्वाधिकार सुरक्षित
बलबीर राणा “अडिग”

0 comments: