Tuesday, 10 June 2014

ये क्या दिखता




ये क्या दीखता
हर दिन एक तमाशा दिखता
कोयी पत्थर फेंकता कोयी खाता दिखता
शर्म लाज चौराहे पे रखकर
मानवता पर कालिख पोतता दिखता

ये क्या दीखता
कोयी तिल तिल को तरसता दिखता
कोई ठूंस ठूंस के भरता दिखता
कोयी संगीत सभाओं में मस्त है
कोयी पूस की रात ठंड में मरता दिखता

ये क्या दिखता
हर कोयी बदलाव चलन चलाने की बात करता दिखता
खुद को बदले की कभी नहीं सोचता
एक नयां बोज जनता सर रखके
ठीकरा दूसरे सर फोड़ता दिखता

मेरे भय्या मेरी नजर में खोट है या
खोट टीवी के परदे पे दिखता
क्या करें अब गंगा भी मैली हो गयी
फिर अपना दामन कैसे साफ दिखता

१२ फ़रवरी २०१४ 
सर्वाधिकार सुरक्षित                        

0 comments: