Monday, 23 June 2014

शरीर के पट

शरीर के पट
व्योम पर पग टिकाने को आतुर मन
पर वहां कोई ठोर ही नहीं
पूरी जगह तारों ने हड़प ली
जो अंतस के अंध में टिमटिमाते हैं
पर उनमें रोशनी नहीं
अडिग है मन का भ्राता जिगर
जो मनोरम धरती को छोड़ता ही नहीं।
@ बलबीर राणा "अडिग"

0 comments: