Tuesday, 8 July 2014

वो कलाकार कहाँ होंगे

प्रीत डोर से बाँधने वाले मेरे 
वो आंचलिक गीत कहाँ होंगे,
दिल के तार झंकृत करने वाले वो सुर कहाँ होंगे,
अब कन फोडू भोंडे वाद्ययों संग विह्वड़े शोर से उचट जा रहा मन,
एक थाप से थिरकाने वाले वो कलाकार कहाँ होंगे।
@ बलबीर राणा "अडिग"

0 comments: