Sunday, 30 November 2014

प्रश्न

हद-की-हद से पार
मद का मोह मेरे यार
पद का मंथन
घर से जंतर मंतर
अब नयाँ फंडा नयाँ धन्दा
भावनाओं पर नयाँ फंदा
200 की- 20 हजार
प्लीज खाले मेरे यार
प्रश्न अडिग का बरकरार
झाड़ू अब तु थाली से रहा हार

@ बलबीर राणा 'अडिग'

0 comments: