Sunday, 21 December 2014

स्वाति बूँद


नहीं मालुम उस बादल को
उसकी असंख्य बूंदों में स्वाति कौन है
तपती धरती की तपन को शीतल करने
वाली वो कर्मज्ञ बूँद कौन है।
जिसने संभाली इस जीवन गाँठ
उस गाँठ का पुरुषार्थ निराला है
तु फिर क्यों इतरा रहा जातक
तेरी पकड़ मात्र एक किनारा है।
किस लौ की चमक सूरज बन जाए
दीपक भी इस भेद से अनजाना है
कौन सा तारा जगमग कर दे राह को
वो स्याह रात अँधेरे में बेगाना है।
कर्म पथ की इस डगर पर
सत्य के पाँव से चलना गंवारा है
मात्र भ्रम और मिथ्या संतोष क्षणिक है
मध्य मार्ग चुना जो तूने सहारा है।
खिल-खिल कर हँस-हँस कर
उपवन का ऋण भरता वह पुष्प झर-झर कर
जिगर की पीड़ा कैसे सुगन्ध बन जाती
इस राज को छुपाता वह रो-रो कर
भंवरा बावरा मंडराता फिरता 
पिपासा बुझाने को उषा से निशा भर।
उस क्षण का नहीं पता गायकी को
कौन गीत आये अधरों पर सरस्वती बन कर
कौन पतवार राम को भी तर लाये
जिसे खेता केवट दिन भर।
जिस थाप पर वो घुंघुरू बजता
पायल अंध खुसी से चूर रहती
सुखी जीवन की वीणा को
करकस ढोलक की थाप में ढूंढती
नहीं पता उसे दर्द नृतिका का
जो टुकड़े के लिए पायल पहनती।
कांटे पर लगे मांस देख
मछली मुग्द दौड़ी आती हैं
जाल तले बिखरे दानो पर
भाग- भाग पंछी उड़ बैठ जाती हैं
नहीं पता उस बेजुबानो को
मोह का चक्रव्यूह इन्शान रच जाते हैं
अपने उर की ज्वाला  बुझाने
समुन्दर पर भी अंग्वाल मार जाते हैं।
देख सुन के, सुन देख कर भी
जीवन स्वाति बूँध पहचान नहीं पाया
क्षणिक सुख को स्वाति समझ अडिग तु
घनघोर सावन घर भर लाया।
अंग्वाल =झपकी या आगोस
रचना:- बलबीर राणा 'अडिग'
© सर्वाधिकार सुरक्षित मेरे ब्लॉग
अडिग शब्दों का पहरा
www.balbirrana.blogspot.com

0 comments: