Friday, 13 February 2015

प्रकाश आवाज दे रहा है


क्यों मिथ्या भ्रम पाले मित्र
जीवन प्रेम विनोद है
राहें खुली बंद नही
ईश्वर अल्ला भगवान् के बीच का द्वन्द नहीं
अंदर झांको देखो जरा
हर घडी इन्तजार में बैठा है वह
जिसे तलासते फिरते हो
मंदिर मस्जिद गुरुद्वारे में
एक ही हाड मांस के पुतले को
कितना अलग देखा तुम्हारी आँखों ने
कब से उसी लाल खून को
काला समझ
बहाते आये
क्या कसूर है उन पंच तत्वों का
उसने एक मूर्ति गड़ी
धर्म जाति की किताब
उसने कभी नहीं पढ़ी
सुनो मुझ अदृश्य प्रकाश की आवाज
जो तुम्हारी आँखों को राहें दिखा रहा
कह रहा हूँ चिल्लाकर
कि!
मैं तुममें से किसी का भी नहीं
मैंने तुम्हें
प्रकृति का सुन्दर विहंगम रूप दिखाया
जो लताओं घटाओं
जीव जीवटताओं को
अपनी गोद में पालती है
और प्यार मुहब्बत का सन्देश देती है
लेकिन !
तुम उसके नियम को तोड़ते चलते गए
खुद के लिए  नफरत फैलाते गए
प्रकृति मेरा आनंद है
जिसका तुमने गाला घोंट मार दिया 
मैं दुःखी हूँ
तुम फिर
कैसे सुखी रह सकते हो।

@ बलबीर राणा "अडिग"

0 comments: