Monday, 19 December 2016

****जय जवान****

No automatic alt text available.

मुद्तों से बनाता रहता
वह उस आड़ को
कि उसके पीछे से
बचा सके अस्मिता
माँ भारती की।


0 comments: